सफलता की कहानी

Success Story: पिता की एक बात को फॉलो करके IPS ऑफिसर बन गयी लकी चौहान

हैलो दोस्तो, आज हम आपको एक ऐसी मोटीवेशनल स्टोरी बताने जा रहे हैं, कि उनके पिता के बात का इतना असर हुआ कि वो IPS बन कर सभी का किया सपना पूरा। चलिये हम विस्तार से जानते हैं:-

जन्म स्थल

IPS लकी चौहान का जन्म उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर के खुर्जा गांव में हुआ था। लकी के पिता का छोटा सा बिजनेस था और मां शिक्षिका थीं।

IPS लकी चौहान

लकी चौहान आज भले ही आईपीएस अधिकारी बनकर देश की सेवा कर रही हों, लेकिन उनके लिए यहां तक पहुंचना बिल्कुल भी आसान नहीं था, उन्होने अपने जीवन मे बहुत सारी कठिनाइयो का सामना किया हैं।

NC क्लास

लकी चौहान बचपन से ही पढ़ाई में होशियार थीं। नर्सरी क्लास मे ही उन्होने एक प्रतियोगिता मे भाग ली थी और वह प्रथम स्थान आई थी।

प्रतियोगिता का पुरस्कार

इस प्रतियोगिता का पुरस्कार देने के लिए डीएम और एसपी आए थे। उनके पिता जी भी वह पर मौजूद थे।

बचपन मे ही पिता जी ने कहा कि…

पिता ने उन्हें कहा कि लकी तुम्हें भी एसपी या डीएम ही बनना है। ये बात उनके दिमाग मे बैठ गयी, और तभी उनका सपना हो गया था UPSC पास करने का।

लकी की पढ़ाई

लकी ने साइंस से 12वीं की थी। बी.ए करने के बाद लकी चौहान की सरकारी नौकरी भी लग गई।

नौकरी के साथ साथ पढ़ाई

लकी ने नौकरी के साथ साथ UPSC की पढ़ाई भी करनी शुरू कर दी। तीन साल तक मेहनत करने के बाद आखिरकार UPSC 2012 में 276 रैंक हासिल की थी।

त्रिपुरा कैडर मिला

ट्रेनिंग के दौरान लकी की योग्यता को देखते हुए केंद्रीय गृह मंत्रालय की तरफ से उन्हें त्रिपुरा कैडर दिया गया। फिलहाल वो त्रिपुरा के गोमती जिले के उदयपुर की एसपी हैं