Home सेलेब्रिटी कोई फिल्म नहीं, कोई टीवी शो नहीं फिर भी रेखा जीती हैं...

कोई फिल्म नहीं, कोई टीवी शो नहीं फिर भी रेखा जीती हैं आज भी आलीशान जिंदगी ये हैं राज

बॉलीवुड में अगर हम बात करें रुतबे की तो समय के साथ काम ना मिलने पर घट जाती है लेकिन बॉलीवुड में कुछ ऐसे अभिनेता और अभिनेत्री अभी भी हैं जिनका रुतबा बॉलीवुड में अभी भी बरकरार है। इसी लिस्ट में एक नाम आता है अभिनेत्री रेखा का। रेखा एक ऐसी अभिनेत्री है जो आजकल फिल्मों मैं नजर नहीं आती और ना ही किसी एड्स में नजर आती लेकिन इसके बावजूद भी रेखा आज भी शानो शौकत के साथ आलीशान की जिंदगी बिता रही है।

रेखा का जन्म 10 अक्टूबर 1954 को चेन्नई में हुआ था। रेखा साउथ एक्टर जेमी गणेशन की बेटी हैं। रेखा की मां पुष्पावल्ली एक तेलुगु अभिनेत्री थीं। रेखा ने अपनी लाइफ में कई लोगों को डेट किया था।

रेखा की पर्सनल लाइफ की बात करें तो रेखा मुंबई के बांद्रा में समंदर के सामने एक बंगले में रहती हैं। इस बंगले की कीमत करोड़ों में है। उनका बंगला फरहान अख्तर और शाहरुख खान के बंगले के काफी करीब है। रेखा ने उस समय हिंदी सिनेमा पर दशकों तक राज किया था। लेकिन फिलहाल वह फिल्मों में ज्यादा एक्टिव नहीं हैं। न ही किसी विज्ञापन में देखा जाता है। ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यह है कि रेखा इस आलीशान लाइफस्टाइल को क्यों जी रही होगी? फिर आज हम दिखाएंगे कि लाइन का खर्चा कैसे चलता है।

गिफ्ट : रेखा के पास की ज्यादातर साड़ियां उन्हें गिफ्ट के तौर पर दी गई हैं। रेखा के पास साड़ियों का अच्छा कलेक्शन है। रेखा एक ही कलेक्शन में कांजीवरम, बनारसी, माहेश्वरी, कांजीवरम जैसी साड़ी पहनती हैं। रेखा कभी भी किसी डिजाइनर के पास ड्रेस डिजाइन करने नहीं जाती हैं।

संपत्ति: मीडिया रिपोर्ट्स और सूत्रों के मुताबिक रेखा की दक्षिण भारत और मुंबई में काफी संपत्तियां हैं। जिसने इसे किराए पर दे रखा है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, इसमें 40 करोड़ यानी 296 करोड़ रुपये हैं। रेखा की कमाई का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उसने 1980-81 में 4.25 लाख रुपए चुकाए थे। उस साल अमिताभ बच्चन ने 4.16 लाख रुपये टैक्स के तौर पर चुकाए थे.

ब्रांड एंबेसडर: रेखा आमतौर पर कम शूट करती है। लेकिन जब भी वह किसी ब्रांड का एंबेसडर बनता है तो उसे पैसे मिलते हैं। रेखा कभी-कभी ब्रांड एंबेसडर होती हैं। जब भी डिस्प्ले और होर्डिंग में उनकी फोटो का इस्तेमाल किया जाता है। इसके लिए उसे एक निश्चित राशि दी जाती है। कुछ साल पहले बिहार सरकार ने रेखा को बिहार का ब्रांड एंबेसडर बनाया था।

रेखा जिस समय फिल्म में काम कर रही थीं उस वक्त वह गलत रकम खर्च नहीं कर रही थीं। वह बचत करने में अधिक विश्वास करता है। जब रेखा का करियर अपने चरम पर था, तब उनके पास काफी पैसा जमा था। जो आज उनके काम आ रहा है।

जहां तक लाइन स्टाफ की बात है तो उनके पास कई सालों से एक ही ड्राइवर और एक ही चौकीदार है। उनका सचिव कर्तव्य की पंक्ति में उनकी छाया बना रहता है। इससे यह देखा जा सकता है कि उसके पास खुद को मेंटेन करने के लिए ज्यादा स्टाफ नहीं है। रेखा का मानना है कि पैसा बचत से ही आता है। रेखा अभी भी भारतीय मध्यवर्गीय मूल्यों में विश्वास करती हैं। रेखा कभी भी डिजाइनर साड़ी में नजर नहीं आती हैं, न ही वह लेटेस्ट कार खरीदती हैं, न ही वे विदेश दौरे पर जाती हैं (एक अवार्ड या शो सेरेमनी को छोड़कर)। रेखा सिर्फ जरूरी चीजों पर खर्च करती है।

सितारों को उद्घाटन समारोह में आमंत्रित किया जाता है जब एक बड़ी कंपनी शुरू की जाती है, या एक सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। सेलेब्रिटीज को भी समारोह में शामिल होने के लिए मोटी रकम दी जाती है। इसके अलावा, लाइन का भुगतान तब भी किया जाता है जब इसे निजी कार्यक्रमों जैसे जन्मदिन की पार्टी, शादी, डांडिया रस के लिए बुलाया जाता है।

टीवी पर ऐसे कई शोज हैं जो रेखा को न्योता देते हैं। फिर उसे शो में भाग लेने के लिए भुगतान किया जाता है। लेकिन अगर कोई इस फिल्म या शो प्रमोशन में जाता है तो उस वक्त उन स्टार्स को कोई पैसा नहीं दिया जाता है।

रेखा राज्यसभा सांसद हैं। वह 2018 से संसद में हैं। तेवा में उन्हें राज्य सभा के सदस्य के रूप में एक निश्चित राशि दी जाती है।