खबरे

टप्पू के छोटी पत्नी की तस्वीर हो रही वायरल, बड़े बड़े हुस्न के परी को देती हैं टक्कर, देखे

Tappu's wife's picture of Taarak Mehta is going viral, gives a competition to the big beauty's angel, see

आज हम बात करेंगे तारक मेहता उल्टा चश्मा के उस किरदार के बारे में जिनके बारे में बहुत कम लोग ही जानते हैं। आपको तो पता ही है कि बच्चा हो या बड़ा सब किसी को तारक मेहता का उल्टा चश्मा बहुत ज्यादा पसंद आता है एक ऐसा शो है जिसमें हर उम्र के लोग इसे बहुत ही चाव से देखते हैं। खासकर बच्चों के लिए तारक मेहता का उल्टा चश्मा सो जाना जाता है तो जल्दी हम बात करते हैं आगे उस किरदार के बारे में।

‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ में यूं तो आए दिन कई ट्विस्ट आते रहते हैं. शो में सबसे ज्यादा अच्छी जोड़ी अगर किसी की मानी जाती है तो वो टप्पू और सोनू की. लेकिन आप जानते हैं कि शो के एक एपिसोड में टप्पू की शादी एक बच्ची से होती है, जिसका नाम टीना होता है, लेकिन क्या आप जानते हैं, वो टीना कहां है?

तारक मेहता का टप्पू की पत्नी की तस्वीर हो रही वायरल, बड़े बड़े हुस्न के परी को देती हैं टक्कर, देखे
तारक मेहता का टप्पू की पत्नी की तस्वीर हो रही वायरल, बड़े बड़े हुस्न के परी को देती हैं टक्कर, देखे

कौन है टीना? : ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ (Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah) के एक सेगमेंट में दिखाया गया था कि कम उम्र के टप्पू की शादी, टीना नाम की बच्ची से हुई थी. इस दौरान गड़ा परिवार में काफी मुश्किलें आई थीं. एक छोटी बच्ची होने के बावजूद टीना नाम की इस बच्ची ने बेहतरीन अदाकारी की थी. उस अकेली बच्ची ने ही जेठालाल की मुसीबतें बढ़ा दी थीं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि वो बच्ची आज कहां हैं?

टीना का असली नाम : ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ (Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah) में टीना नाम का किरदार निभाने वाली बच्ची का नाम है नुपुर भट्ट. एक्ट्रेस नुपुर आज 20 साल की हो चुकी हैं. साल 1999 में उनका जन्म हुआ था. नुपुर भट्ट सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं. आए दिन वो अपनी खूबसूरत फोटोज शेयर करती रहती हैं.

‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा की कहानी’ : आपको बता दें, तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ (Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah) साल 2008 से लोगों का मनोरंजन करता आ रहा है. शो के कई किरदार बदले, लेकिन लोगों के अंदर शो को लेकर दिलचस्पी जरा भी कम नहीं हुई है. यह कहानी मुंबई के गोकुलधाम की है, जहां अलग अलग जगह, संस्कृति और परम्पराओं के लोग एक दूसरे के साथ खुशी से रहते हैं. यह कहानी तारक मेहता के ‘दुनिया ने ऊन्धा चश्मा’ पर आधारित है, जो एक गुजराती साप्ताहिक अखबार चित्रलेखा के लिए लिखते थे.