खबरे

गणेश जी को इस चीज हैं नफरत, भूल कर भी ना करे ये काम..

जब तक गणपति घर में बैठे हैं, तब तक इन बातों का विशेष ध्यान रखें, गणेश चतुर्थी के नियम: आज गणेश चतुर्थी के दिन लोग गणपति को बड़ी धूमधाम से घर ला रहे हैं. कहते हैं इसी दिन भगवान गणेश का जन्म हुआ था इसलिए पूरे देश में भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को गणेश चतुर्थी मनाई जाती है. इस दिन घरों में गणपति की स्थापना की जाती है। बप्पा की स्थापना के बाद विधि-विधान से उनकी पूजा-अर्चना की जाती है। भक्तों की इस पूजा से प्रसन्न होकर भगवान उन्हें सुख, समृद्धि और सौभाग्य प्रदान करते हैं।

आज से 10 दिनों तक चलने वाले इस गणेश उत्सव में 10 दिनों तक घर में गणपति की स्थापना की जाती है. कोई चाहे तो बप्पा को 1.5 दिन, 3 दिन, 7 दिन भी रख सकता है. बप्पा का विसर्जन 19 सितंबर को अनंत चतुर्थी के दिन किया जाता है. विघ्नहर्ता गणेश की स्थापना शुभ मुहूर्त के अनुसार की जाती है। जहां कुछ लोगों ने गणेश स्थापना की होगी, वहीं कुछ लोग शुभ मुहूर्त के अनुसार शाम तक भी कर सकते हैं। लेकिन बप्पा के घर में विराजमान होने के बाद आपको कई बातों का ध्यान रखना होता है. जब तक गणपति घर में बैठे हैं, तब इन बातों का विशेष ध्यान रखें।

प्याज और लहसुन न खाएं : घर में गणपति की स्थापना के बाद कई नियमों का पालन करना पड़ता है। अगर इन बातों का ध्यान नहीं रखा गया तो बप्पा नाराज हो जाते हैं। जब तक बप्पा आपके घर में है तब तक घर में

प्याज और लहसुन न खाएं और न ही पकाएं। पहले भगवान गणेश को चढ़ाएं (जो आप पहले खाते हैं वह भगवान गणेश को अर्पित करें)
कहा जाता है कि बप्पा के घर में विराजमान होने के बाद कई बातों का ध्यान रखा जाता है। घर में आप जो भी खाएं, सबसे पहले वह चीज बप्पा को चढ़ाएं। फिर चाहे वह पानी हो या भोजन।

भगवान गणेश को अकेला न छोड़ें (अनदेखी गणेश जी न करें)
यह एक धार्मिक मान्यता है कि भगवान गणेश को घर में अकेला नहीं छोड़ना चाहिए। अगर आपको कहीं जाना भी हो तो भी परिवार का कम से कम एक सदस्य गणपति के पास मौजूद होना चाहिए।

जुआ को ना कहो गणपति की स्थापना के बाद घर में या घर के बाहर जुआ आदि वर्जित है। इससे लक्ष्मी जी नाराज हो जाती हैं और जातक को जीवन में कई आर्थिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

नॉनवेज और शराब का सेवन ना करें घर में गणपति की स्थापना के बाद घर और स्वयं दोनों को शुद्ध रखना आवश्यक है। ऐसे में घर में मांस आदि न बनाएं और न ही बाजार में खाएं। इतना ही नहीं, गणपति के घर में रहने तक शराब भी नहीं पीनी चाहिए।

सकारात्मक सोचो, अपनी सोच सकारात्मक रखें। कहा जाता है कि गणपति की स्थापना के बाद आप जो भी सोचें, सकारात्मक सोचें। इस दौरान अभद्र भाषा का प्रयोग न करें। इस दौरान शांत रहना चाहिए। क्योंकि गणपति आपकी हर समस्या का समाधान करने के लिए आपके घर पर मौजूद हैं। ऐसे में आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है।