Home सेलेब्रिटी आखिर मल्लिका शेरावत इस वक्त कहाँ हैं?

आखिर मल्लिका शेरावत इस वक्त कहाँ हैं?

आपने मॉडर्न फिल्म के मल्लिका शेरावत को तो देखा ही होगा। चीन के एक शासक ने ऐसा कार खींचा कि दुनिया देखती ही रह गई। रूस का जासूस पत्थर अगर भारत को मिल गया तो दुश्मन की खैर नहीं। हेलो दोस्तो आज के एपिसोड में हम आपको ऐसे ही कुछ सवालों के जवाब के बारे में बताएंगे।

नंबर 01: महेश भट्ट की फिल्म मॉडर्न से लाइमलाइट में आई मल्लिका शेरावत का नाम तो आप सभी लोगों ने सुना ही होगा। आज के एपिसोड में हम आप को उनके बारे में कुछ ऐसे फैक्ट के बारे में बताएंगे जिसके बारे में आपने शायद नहीं सुना होगा।

मल्लिका शेरावत का असली नाम है रीमा लंबा। उनका जन्म हरियाणा के पानीपत में हुआ था। मल्लिका को सजाने संवारने का काफी शौक था। जिसके कारण उनकी एक बार काफी पिटाई भी हुई थी। क्योंकि उन्होंने दूसरों की लिपस्टिक लगा ली थी।

मल्लिका ने अपने कॉलेज के टाइम पर कुछ मॉडलिंग प्रोजेक्ट किए। कॉलेज खत्म होने के बाद उन्होंने फिल्मों में एक्टिंग करने की ख्वाहिश जारी की। इसके बाद उनके पिता ने उनसे सारे रिश्ते तोड़ दिए।

मल्लिका ने दादी के पुस्तैनिक गहने बेचकर मुंबई में किराए का मकान लिया। और वहां रहकर ऑडिशन देने लगी। उन्हें फिल्म में तो मिल रही थी लेकिन इन्होंने में उनका काफी छोटा रोल होता था। उन्हें कोई नोटिस नहीं करता था। बाद में उन्हें एक ख्वाहिश नाम की फिल्म मिली। यह फिल्म काफी अच्छी चली।

इस फिल्म के जरिए मल्लिका के बोल्ड अवतार के जरिए लोग उन्हें जानने लगे। जिसके बाद उन्हें मर्डर में कास्ट किया गया। यह फिल्म काफी अच्छी चली। जिसके बाद मल्लिका रातों-रात सेलिब्रिटी बन गई।

मल्लिका ने कई सारे इंटरनेशनल फिल्म में भी काम किया। मल्लिका ने कई सारे कांटेक्ट वर्सेस की शिकार बनी। लेकिन उन्हें खोलकर बोलने के अवतार ने उन्हें बचा लिया।

फिलहाल मलिका मुंबई में ही रहती है। जल्द ही वो एक फिल्म में दिखाई देने वाली है जिसकी जानकारी अभी तक नहीं मिली है।

नंबर 02: वर्ल्ड रिकॉर्ड को हासिल करने के लिए लोग किसी भी हद तक चले जाते हैं। चाइना में रहने वाले एक टीचर जैंग जोंग ने जो खुद 70 किलोग्राम के हैं उन्होंने 1225 किलोग्राम की एक गाड़ी अपने हाथों के बल पर लगभग 50 मीटर तक खींची। उन्हें यह करने में 1 मिनट 13.27 सेकंड लगे। ऐसा करके उन्होंने वर्ल्ड रिकॉर्ड का सर्टिफिकेट अपने नाम किया।

नंबर 03. आपने अक्सर देखा होगा कि ठंड में बच्चों के माता-पिता उन्हें कपड़ों से ला दे देते हैं और घर से बाहर निकलने से मना करते हैं। लेकिन लग्जरिया में ठंड के मौसम में कड़ाके की ठंड में बच्चों को बाहर सुलाया जाता था। वह के माता-पिता को मानना था कि अगर बच्चे ठंड के एक-दो घंटे की चपेट में आएंगे तो उन्हें इम्यूनिटी स्ट्रांग होगी। और उनके बच्चे कम बीमार पड़ेंगे।

लेकिन एनजीओ के प्रेशर में आकर उनके माता-पिता ने ऐसा करना बंद कर दिया था। जिसके बाद वहां पर ऐसा करने के लिए नहीं देखा गया।

नंबर 04. दोस्तो आप तो जानते हैं कि हमारे घर शादियों में भर भर के मेहमान आते हैं। कुछ मेहमान तो ऐसे होते हैं जिन्हें यह पता भी नहीं होता कि वह किस के तरफ से शादी में आए हैं। जिन्हें हम बिन बुलाए मेहमान के नाम से भी जानते हैं। लेकिन दोस्तों साउथ कोरिया के शादियों में ऐसा नहीं होता। वहां के शादियों मे कम मेहमान लोग आते हैं।

साउथ कोरिया में जिसके घर सबसे ज्यादा मेहमान आते हैं उनके समाज में नाम उतना ही ऊंचा होता है। इसलिए साउथ कोरिया में आपको ज्यादातर किराए के मेहमान देखने को मिल जाएंगे। जिन्हें यह घंटे के लगभग 15 सौ से ₹2000 दिए जाते हैं।

नंबर 05. आपने आज तक कई तरह के मुखोटे देखे होंगे, कार पहने भी होंगे। लेकिन दोस्तों क्या आपने दुनिया का सबसे पुराना मुखौटा देखा है। इस मुखोटे को 2017 में इजरायल में इकोलॉजिस्ट की टीम ने ढूंढा था।

जिसके बाद पता चला कि पत्थर का बना यह मास्क 2000 साल पुराना है। फिलहाल इस मास्क को जेरूसलम के म्यूजियम में रखा गया है।

नंबर 06: आपने आज तक कई तरह के पेड़ देखे होंगे। लेकिन आज हम आपको ऐसे पेड़ को दिखाएंगे जिसे खुद नेचर ने तलाशा है। जो यह चाइना में स्थित है। दूर से देखने पर यह पेड़ ऐसा लगता है कि जैसे कोई इंसान ने शेप दिया हो। जिस तरह से नेचर नहीं इसे खुद तराशा है ऐसा लगता है नेचर खुद का ध्यान रखने में सक्षम है।

नंबर 07. एडवांस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके रसिया ने एक गैजेट बनाया है। अगर यह गैजेट आपके सामने आ जाए तो आप इसे पहचान नहीं पाएंगे। हम बात कर रहे हैं रशियन हस्पाइस डॉग रोबोट की। जिसे रसिया के एक व्यक्ति ने डिवेलप किया है।

दूर से एक बड़े पत्थर जैसा दिखने वाला यह गैजेट दुश्मन की आंखों में धूल झोंकने में सक्षम है। इस गैजेट में पॉप अप कैमरा लगाए गए हैं। जिस कारण अपने आसपास के हो रही हलचल को रिकॉर्ड कर लेते हैं।

Disclaimer- इस एपिषोड की सामाग्री शोध पर आधारित हैं, और वेब, लेखो और समाचार पात्रो पर अध्ययन किया गया हैं। हम यह दावा नहीं देते हैं कि हमने जो जानकारी एकत्रित की हैं वह 100 प्रतिशत सटीक हैं। हमारी सामाग्री सिर्फ मनोरंजन के उद्धेश्य से हैं। हमारा इरादा किसी को चोट पहुंचाने का नहीं हैं।