Trending Hindi jokesFunny jokesजोक्सLove jokesUPSCJokesमजेदार जोक्सहिंदी जोक्सIPSIASfactUPSC EXAM QNA

अगर पृथ्वी के सारे लोग मंगल ग्रह पर बस जाये तो क्या होगा… जानिए विस्तार से

हैलो दोस्तो, आप तो जानते हैं इस पृथ्वी पर अगर किसी का कब्जा हैं तो वो हैं, इंसान। इस पृथ्वी पर करीब 8 अरब लोग रहते हैं। और आने वाले कुछ ही समय मे यह संख्या और भी बढ्ने वाली हैं। अगर पृथ्वी की तरह ही एक और ग्रह को नहीं ढूंढा गया तो इन्सानो के साथ साथ पृथ्वी का भी अस्तित्व खत्म हो जाएगा। इसी वजह से आज इंसान कभी चाँद तो कभी मंगल पर पहुँचने और वहाँ पर बसने की कोशिश करते रहते हैं।

इंसान लंबे समय से मंगल ग्रह पर इन्सानो को बसने की कोशिश मे लगा हैं। उम्मीद हैं कि इंसान अगले कुछ सालो मे वहाँ पर रहने के लिए भी पहुँच जाएगा। अगर पृथ्वी की सारी आबादी मगल ग्रह पर पहुँच जाये तो मंगल ग्रह का क्या होगा, क्या कभी आपने सोचा हैं? आज हम आपको इनही सब के बारे मे बताने वाले हैं।

इस पृथ्वी पर कभी NASA तो कभी ISRO हर कोई मगल ग्रह के पीछे पड़ा हैं। क्या कभी आपने सोचा हैं, कि सभी लोग चाँद को छोडकर मंगल ग्रह के पीछे क्यू भाग रहे हैं, जबकि चाँद तो पृथ्वी से नजदीक हैं और मंगल दूर हैं। तो सबसे पहले हम आपको बता दें कि इसका 3 मुख्य कारण हैं:-

REASON-1:- चंद्रमा पर पानी तो जरूर हैं लेकिन वहाँ का जगह इन्सानो को रहने लायक बिलकुल भी नहीं हैं। साथ ही साथ चंद्रमा सूर्य से भी नजदीक हैं, जिसके कारण वहाँ पर इतनी भयानक गर्मी पड़ती हैं कि इन्सानो के रहने की बस की बात नहीं हैं। वैज्ञानिको का दावा हैं कि वो अगले कुछ सालो तक मंगल ग्रह पर सब्जियाँ भी उगा देंगे। मगल ग्रह पर इन्सानो की जिंदगी को बचाया जा सकता हैं।

REASON-2:- वैज्ञानिको का दावा हैं कि मंगल ग्रह के घारती पर कोई-न-कोई सूक्ष्म जीव रहता हैं। पृथ्वी से मगल ग्रह की दूरी 5 करोड़ 46 लाख किलोमीटर हैं। वैज्ञानिको का कहना हैं कि मंगल ग्रह की घारती इन्सानो के रहने लायक हैं।

REASON-3:- चीन और रूस के बीच हमेशा चाँद पर पहुँचने का कंप्टिशन चलते रहता हैं। इसी तरह मंगल ग्रह पर भी पहुँचने की कंप्टिशन चल रही हैं। जो देश यहाँ पर सबसे पहले पहुंचेगा मंगल ग्रह पर उसी देश का राज हो जाएगा। यही वजह हैं कि अमेरिका, रूस, चीन, ब्रिटेन और साथ-ही-साथ भारत भी मंगल ग्रह की तरफ तेज रफ्तार से भाग रहा हैं।

अब पृथ्वी के वैज्ञानिको द्वारा मंगल ग्रह पर कई सारे मिशन भेजे जा चुके हैं। लगभग 30 से भी ज्यादा, उन्मे से 6 मिशन ही सफल हो पाये हैं।

यूरोप का मिशन:- यूरोप का एक मिशन मंगल पर उतरने के ठीक पहले ही क्षतिग्रस्त हो गया। बाद मे पता चला कि कैलकुलेशन की मामूली सी गरबरी की वजह से यान का रफ्तार कम करने वाला सटीक वक्त से सिर्फ आधा सेकंड पहले ही बंद कर दिया गया।

रूस का मिशन:- रूस का एक मिशन सतह पर उतरने के सिर्फ 14 सेकंड पहले ही धरती से उसका संपर्क टूट गया। अगर इसी मिशन पर किसी इंसान को बैठाकर भेजा जायेगा तो उसका क्या हाल होगा।

विज्ञान चाहे कितना भी तरक्की क्यू न कर ले ब्रह्मांड का ये नियम कभी नहीं बादल सकता हैं। दुनियाँ के सबसे अमीर शख्स एलन मस्क ये कोशिश मे लगा हैं की मंगल गृह पर इंसानी बस्ती को बसा सके। उन्होने यह साफ कहा हैं, कि वो एक ऐसा यंत्र बना रहे हैं जिससे लगभग 25 से 30 दिनो मे ही मंगल गृह पर पहुंचा जा सके।

लेकिन फिर भी कोई इंसान पृथ्वी को छोडकर मंगल की तरफ निकलेगा, तो उसे यह मान कर चलना होगा कि वह मौत की तरफ बढ़ चला हैं। मंगल पर ऑक्सीज़न लगभग ना के बराबर हैं, और पानी भी वहाँ पर मौजूद नहीं हैं।