Home रोचक तथ्य जब यह मछली रोड पर चलती हैं तो लाशे बिछ जाती हैं

जब यह मछली रोड पर चलती हैं तो लाशे बिछ जाती हैं

हैलो दोस्तो, आपने गॉडजिला जैसी हॉरर फिल्में तो देखी ही होगी। जो जीते जागते हैं इंसानों का जान ले लेते हैं। यह तो फिल्में में होती है लेकिन हम आपको रियल लाइफ में ऐसे ही एक मछली के बारे में बताएंगे। सिर्फ यही नहीं बल्कि पानी में रहने वाले जीव भी इंसानों के लिए खतरा बन सकती है। Clinging purch नाम की एक मछली है जिसे कोई वैज्ञानिक ने जीते जागते इंसान का दुश्मन बताया है।इससे इको सिस्टम पर काफी ज्यादा नुकसान पहुंच सकता है। आज हम आपको ऐसे ही मछली के बारे में बताने जा रहे हैं जो आप के आस पास मिलने वाले मछली से बेहद ही खतरनाक है। तो चलिए जानते हैं देखिए मछली इतनी खतरनाक क्यों है:-

दोस्तों अगर आप कोई साधारण मछली को पानी से निकाल दोगे तो वह तुरंत मर जाएगी। लेकिन clinding purch मछली के लिए पानी और जमीन दोनों ही बराबर है। अपने wings की मदद से जमीन पर रेंग सकते हैं। यह 6 दिनों तक पानी से बाहर रह सकती हैं। अगर यह आस्ट्रेलिया पहुंच गई तो कई सारे आपदा हो सकती हैं।

इस मछली को पक्षियों को गले घोटकर निगलना जाना जाता है। इस मछली के बॉडी पर पाए जाने वाले विंग्स काफी कांटेदार होते हैं। यह बहुत जहरीले कांटो से लैस होती है। इस मछली को हाथ में पकड़ना बहुत मुश्किल है। यह मछली मुख्य रूप से दक्षिण पूर्व एशिया में पाए जाते हैं।

दोस्तों, climbing purch मछली 9.8 इंच तक बढ़ती है। लेकिन कभी-कभी यह मछली 25 सेंटीमीटर तक बढ़ जाती है। यह 6 महीने तक सूखे कीचड़ में रह जाती है। अगर कोई बड़ा जीव इस मछली को खा लेता है तो उसमें गले में जाकर चिपक जाती हैं। अपने विंग्स खोलकर अपने जहरीले काटे उसके गले में चुभो देती है। यह मछली कोई भी कंडीशन में अपने आप को अच्छी तरह से ढाल लेती है।

दोस्तों आपको जानते हैं कि नेचुरल में छोटे-छोटे कीड़े मकोड़े अहम भूमिका निभाती है। दोस्तों अगर इस मछली के घरेलू नदि या तलाब ओवर हो जाती है तो किसी दूसरे नदी या तालाब में अपना ठिकाना बना लेती है। अगर यह मछली किसी दूसरे नदी या तालाब में अपना ठिकाना बना ली, तो वहां के जीव जंतु के मौत निश्चित होती है।

इस मछली में एक अलग प्रकार का ऑर्गन पाया जाता है जिसमें वह पानी को स्टोर कर के रख सकती है। जिसके कारण या बिना पानी के जमीन या मिट्टी पर काफी दिनों तक रह सकती है। यह जमीन पर हमेशा रेंगती हुई नजर आती है।यह मछली कई बार बोट से भी जाकर चिपक जाती है। क्लाइंबिंग पर्च मछली को अगर कोई मछुआरा पकड़ भी ले तो यह मरने की ऐसी एक्टिंग करती है, जैसे किसी को भी लगता है कि यह मछली मर गई। पर यह मछली मरती नहीं है।

अगर यह मछली कहीं पर भी देखती है तो वहां पर फॉरेस्ट पुलिस को तुरंत बुलाया जाता है। इस मछली की वजह से कई सारे छोटे जीव विलुप्त हो गए हैं। इस मछली के फलने फूलने रोकने के लिए बस एक ही इलाज है क्या इसे नए नए स्थान पर अपना बसेरा बनाने से रोकना।इस मछ्ली को सबसे पहले साउथ ईस्ट में देखा गया।

कुछ ही दिनों में या पूरी दुनिया में फैल गए। अब मैं पूरी दुनिया में आतंक फैलाते हैं जा रहे हैं। मछली के मारने का एक और भी तरीका है छोटे छोटे बांध बनाकर इस मछली को उस में डाल कर कीटनाशक की दवा मिलाई जा सकती है। जिससे इस मछली की संख्या में कमी आ जाएगी।