पूरा का पूरा देश निगल जाता अगर ये ज़िंदा होता !

सांप, ये नाम सुनकर ही कितना खतरनाक लगता है ना। हमारी पृथ्वी पर बहुत सारे ऐसे सांप पाए जाते हैं जैसे तस्वीरों में ही देखने से हमारे रूह कांप जाती है। आपको ऐसे ही दो ऐसे ताकतवर सांप के बारे में बताएंगे, जिसे देखने के बाद आप यकीन नही कर पाएंगे। तो चलिए शुरू करते हैं:-

एक समय ऐसा भी था जब हमारे पृथ्वी पर ऐसे सांप मौजूद थे जिसके सामने एनाकोंडा कुछ भी नहीं था। हम बात कर रहे हैं सांपों की सबसे बड़ी प्रजाति “टाइटेनो बोया” की।

मगरमच्छ की सबसे बड़ी प्रजाति “क्रोनोसोरस” की।

एक वक्त था कि पानी हो या जमीन सभी जगह इन्ही दो खतरनाक जीवो का आतंक था।

सबसे पहले बात करते हैं टाइटेनो गोवा की जो आज से लगभग 6 सौ लाख वर्ष हुआ करता था। इसका आकार 45 फीट और इसका वजन 2 टन से भी ज्यादा था।

टाइटेनो बोया बड़े से बड़े मगरमच्छ को ही अपना भोजन बना लेता था। उसके शरीर में इतनी ताकत मौजूद थे कि हाथी और हिप्पोपोटामस जैसे जीवो को भी खा सकता था। लेकिन उस समय हिप्पोपोटामस नहीं हुआ करते थे।

अगर पानी में रहने वाले क्रोनोसोरस की बात करें तो इसकी खोपरी की साइज भी 4 मीटर से ज्यादा था। पुराना सर इसकी लंबाई 40 फुट है और इसका वजन 12 टन था।

लंबाई के मामले में भले ही क्रोनोसोरस टाइटेनो गोवा से कम था, लेकिन ताकत के मामले में यह टाइटेनो गोवा से बहुत अधिक था।
इनके जबरो में बहुत ताकत थी।

इन दोनों जीवो के रहने का इलाका काफी अलग था, इसलिए यह दोनों कभी आमने सामने नहीं आते थे।

अगर गलती से आज के समय में कोलंबिया जैसे इलाकों में टाइटेनो गोवा रहता तो वहां के लोगों को बिजली के तार के बाउंड्री बना कर रहना पड़ता। अगर टाइटेनो बोया आज जिंदा होता तो हवा पानी सब कुछ बुरी तरह से प्रभावित होती।

और अगर क्रोनोसोरस जिंदा होता तो समुद्री जहाजों को इस तरह से मजबूत बनाना पड़ता है कि समुद्री तूफानों के अलावा क्रोनोसोरस से भी निपटा जाए।