जाने आखिर शार्क डोलफ़िन से इतना डरती क्यू हैं

दोस्तों क्या आप जानते हैं की समुन्द्र का राजा किसे कहा जाता हैं ? और वो कौन सा जानवर हैं जिससे समुन्द्र का राजा को भी मात दे सकता हैं और वो उससे डरता भी हैं ? अगर नहीं जानते हैं की तो चलिये जानते हैं कौन हैं वो :-

शार्क एक ऐसा जींव हैं जिसे समुन्द्र के दुनिया का राजा माना जाता हैं। अपने खूंखार स्वभाव और विशालकार बॉडी की वजह से शार्क को बहुत ही खूंखार मछली माना जाता हैं। समुन्द्र का कोई भी जींव सार्क से टकराने ही हिम्मत नहीं करता हैं। शार्क के दाँत इतने नुकीले और मजबूत होते हैं की वो लोहे की चींज को भी चबा सकता हैं। इंसान और जानवर तो दूर की बात हैं यहाँ तक की वो एक बड़े हाथी को भी अपना शिकार बना सकती हैं।

दोस्तों समुन्द्र का एक मछली डोलफ़िन बेहद छोटी और माशूम होती हैं। फिर भी सार्क की पकड़ और रफ्तार को भी मात देती नजर आती हैं। यह सबसे जीनियस मछली मे से एक हैं। यही कारण हैं डोलफ़िन अपने तेज दिमाग से सार्क को अपने इर्द-गिर्द घूमाती रहती हैं। रफ्तार के मामले मे भी सार्क से यह बहुत ही तेज हैं।

दोस्तों यह बात आपको जानकार हैरानी होगी की समुन्द्र की रानी सार्क डोलफ़िन से बहुत ज्यादा ही डरती हैं। दोस्तों सार्क और डोलफ़िन की बॉडी की साइज को देखकर आप यह सोच रहे होगे की सार्क डोलफ़िन की आसानी से शिकार कर सकता हैं लेकिन इससे जस्त उल्टा हैं समुन्द्र की रानी सार्क भी डोलफ़िन से डरती हैं। क्यूकि डोलफ़िन की बॉडी बहुत ही लचीली होती हैं।

वो आसानी से ऊपर से नीचे और नीचे से ऊपर जा सकती हैं लेकिन सर का ऐसा नहीं होता हैं। दोस्तों जब सार्क और डोलफ़िन का आमना-सामना होता हैं तो डोलफ़िन सार्क को नाकों तले चने चवाने पर मजबूर कर देती हैं। डोलफ़िन सार्क के पेट पर जोड़दार टक्कर मारती हैं जिससे सार्क को दर्द होने लगता हैं।

दोस्तों आप यह सोच रहे होगे की एक छोटी सी मछली की टक्कर से सार्क को दर्द कैसे हो सकता हैं तो चलिये जानते हैं। दोस्तों डोलफ़िन का मुंह एक छुछुंद्र की तरह होता हैं और बहुत ही मजबूत हड्डी से बना होता हैं और डोलफ़िन की कई बार टक्कर से सार्क को दर्द होने लगता हैं। सार्क डोलफ़िन के अंडे को खा जाती हैं यही वजह हैं की डोलफ़िन हमेशा से सार्क को अपना दुशमन मानती हैं।

डोलफ़िन मछली को इंसानों का भी दोस्त माना जाता हैं। इसलिए क्यूकि डोलफ़िन ने समुन्द्र के अंदर कई बार इंसानों की जान भी बचाई हैं। दोस्तों समूह मे रहना डोलफ़िन की सबसे बड़ी ताकत हैं। वो हमेशा समूह मे रहती हैं। सार्क के जबरे मे 400 दाँत होते हैं। सार्क का जबरा एक शेर के जबरे से 4 गुना ज्यादा ताकतवर होता हैं। डोलफ़िन के सिर्फ 42 दाँत होते हैं लेकिन डोलफ़िन के जबरे भी सार्क के जबरे की तरह ही मजबूत होता हैं और यही कारण हैं की डोलफ़िन सार्क से टक्कर ले लेती हैं।