Home रोचक तथ्य 90 के दशक की ऐसी चीजे जिसे पाने के बाद आपकों “राजा...

90 के दशक की ऐसी चीजे जिसे पाने के बाद आपकों “राजा बाबू” की फिलिंग आएगी

दोस्तों हम अक्सर 90 की पैदाइश वाले करते रहते हैं। की उस समय ऐसा होता था, उस समय ये मिलता था, अब ये चीज नहीं मिलती हैं, ऐसे नहीं करते हैं लोग, वैसे नहीं करते हैं लोग। अक्सर हम ऐसी बाते करते हैं। हमे अपने बचपन के दिनों की बात अक्सर याद करते रहते हैं। ऐसे माना जाए तो ये ठीक भी हैं। यादें इंसान की सबसे अच्छी दोस्त होती है।

पर आपको याद है कैसे उस समय मे कुछ चीज़ें होना अपने में रईसी वाला एहसास लेकर आती थी। जैसे- स्कूल में वो फ़ैसी पेंसिल बॉक्स होना, ख़ुद की साइकिल होना या फिर कभी मम्मी अचानक से ख़ुश हो कर वो 20 वाली चॉकलेट दिला दे। बड़ा संभाल कर और अपने दोस्तों के साथ और लोगों के सामने बड़े प्यार से दिखते हैं। ऐसी ही बहुत सी चीज़ों की एक लिस्ट हमने बनाई है जो उस दौर में हमारे लिए Luxury होती थी और मिल जाए तो राजा बाबू बन गए।

इस लिस्ट का पहला नाम हैं हीरो या तो एटलस की साइकिल होना यानि की अपने आप मे “कूल” होना।

इस लिस्ट का दूसरा नाम हैं आपके मोहल्ले मे आपके आलवे किसी और के पास कलर टीवी होना यानि की आपके घर मे एक कलर टीवी होना तो सोचिए कैसी फिलिंग होगी आपको।

तीसरे नंबर पर हैं लैंडलाइन फोन होना

चौथे नंबर पर बजाज का स्कूटर होना जो की अपने आप मे एक LUXURY की बात हैं। उस जमाने मे लोगो के पास यह स्कूटर होना तो बड़े ही गर्व की बात होती थी और सोचिए की जिस दिन आपके पिता जी उस स्कूटर आपको स्कूल छोड़ने जाए तो आपको कैसी फिलिंग होगी आप यह महसूस तो जरूर कर रहे होगे।

आपको बता दे की पहले के जमाने मे किसी का बर्थडे पार्टी होना बहुत ही बड़ी बात थी। घर पर सब आते थे, अच्छा केक, समोसे, पैटीज़, रसना…वो फ़ील ही अलग थी

चॉकलेट वाक़ई में एक Luxurious फ़ूड आइटम था।

लड़कियो का अक्सर सपना होता हैं की उसे बचपन मे बार्बी डॉल मिल जाए सोचिए अगर ऐसा हो जाए तो…

Sony का वॉकमैन, इसके लिए इतना रोते थे मम्मी-पापा के आगे, तब भी मिल जाए तो अपने आप को ख़ुशनसीब समझते थे।

SONY DSC

टेप रिकॉर्डर घर के क़ीमती सामानों की श्रेणी में आता था।

दोस्तों आपके पिता जी ने कभी आपसे कहा होगा की अगर एक्जाम मे अच्छे नंबर आ जाए तो Casio की वॉच मिलेगा तो आप अपने आपको खुसनसीब ही समझते होगे।

Bata या Liberty के जूते

स्कूल को फ़ैसी स्टेशनरी आइटम जो 2 साल में एक बार नसीब होते थे।

घरवालों के साथ किसी रेस्टोरेंट में खाना या महीने में एक बार जब आइस-क्रीम मिले।

फ़्लाइट में यात्रा करना।

हमेशा चाहते थे कि हमारे घर में भी एक Maruti 800 हो ।

50 पैसे नहीं बल्कि 2 रुपये का नोट ।

वीडियो गेम्स