Home रोचक तथ्य बिना पेपर के पास हो गए इंजीनियर, देखिए फनी तस्वीरे हसी नहीं...

बिना पेपर के पास हो गए इंजीनियर, देखिए फनी तस्वीरे हसी नहीं रुकेगी

बिना पेपर के पास हो गए इंजीनियर। दोस्तों एक वक्त ऐसा था जब लोगों को कुछ समझ में नहीं आता था, और लोग बीटेक कर लेते थे। क्या आपको पता है कि मजबूरी में बीटेक करने वाले लोगो को क्या होता है। आर के एपिसोड में हम आपको वैसे ही इंजीनियर के बारे में बताने वाले हैं।

दोस्तों एक बार एक व्यक्ति ने झारखंड में टॉयलेट बनाया जिसमें बाहर लिखा हुआ था कि यह टॉयलेट महिलाओं का है। बाहर तो लिखा हुआ है कि यह टॉयलेट महिलाओं का है लेकिन अंदर का नजारा पूरा पुरुषों का है। सबसे पहले उस इंजीनियर को बुलाकर यह पूछना चाहिए कि महिला इस पायलट का इस्तेमाल कैसे करेगी।

यह कारनामा उत्तर प्रदेश के एक इंजीनियर का है। यहां पर भाई साहब ने एक ऐसे टॉयलेट को बनाया जिसका इस्तेमाल कैसे करना है या किसी को समझ में नहीं आ रहा। एकदम छोटी सी जगह पर टॉयलेट बना तो दिया लेकिन यह समझ में नहीं आ रहा था कि टॉयलेट बंद कैसे होगा।

दोस्तों आप लोगों में से कोई एक अक्सर यह सवाल करते रहता होगा कि पहले मुर्गी आई या फिर पहले अंडा। उसी तरह से एक और सवाल विकसित हो रहा है कि यहां पर पहले रेलवे आई या फिर खंभा। पता नहीं ऐसा कौन सा इंजीनियर था जो रेलवे के पटरी पर ही खंभा गाड़ दिया।

दोस्तों आप तो जानते हैं कि जब भी कोई ऊंची ऊंची बिल्डिंग बनती है तो उसमें सबसे पहले काम होता है सीमेंट और ईंट को सबसे ऊपर पहुंचाना। बहुत सारे जगह पर तो बड़े-बड़े मशीन का उपयोग किया जाता है पर कोई कोई जगह पर मजदूर से ही काम चलाया जाता है। लेकिन एक व्यक्ति ने ईंट को ऊपर ले जाने के लिए जबरदस्त जुगाड़ लगाएं हैं। उसने स्कूटर के पहिए पर एक रस्सी जोड़ दी।

अब आप जरा सिविल इंजीनियर के कारनामे को देख लीजिए। इस महान इंजीनियर को जिसने भी टेंडर दिया होगा वह सिर पर हाथ रखकर रो रहा होगा। पता है कोई मकान अगर बनाया जाए तो उसकी उम्र 20 से 25 साल तक जरूर रहती है। लेकिन इस इंजीनियर ने जब दीवार को बनाया तो ठीक तरह से बना भी नहीं और वह पूरी तरह से ढह गया।

आज तो कहा जाता है कि अगर किसी काम में डेडीकेशन हो तो रिजल्ट बढ़िया आता है। अब आप इस मिस्त्री को देख लीजिए इन्हें नीचे के हिस्से को प्लास्टर करना था। यह मिसतीरी सबसे पहले तीन-चार लोगों को जुगाड़ करते हैं। और उन तीन चार लोगों को बोलते हैं कि उनके टांग पकड़ कर लटका दिया जाए। जिसके बाद इंजीनियर भाई साहब आराम से प्लास्टर करते हैं।

Disclaimer- इस एपिषोड की सामाग्री शोध पर आधारित हैं, और वेब, लेखो और समाचार पात्रो पर अध्ययन किया गया हैं। हम यह दावा नहीं देते हैं कि हमने जो जानकारी एकत्रित की हैं वह 100 प्रतिशत सटीक हैं। हमारी सामाग्री सिर्फ मनोरंजन के उद्धेश्य से हैं। हमारा इरादा किसी को चोट पहुंचाने का नहीं हैं।