Home अजब गजब इंसान के मृत्यु के बाद दूसरा जन्म होता हैं या नहीं?

इंसान के मृत्यु के बाद दूसरा जन्म होता हैं या नहीं?

हैलो दोस्तों आप तो जानते हैं कि जीवन का सबसे बड़ा सत्य है मृत्यु। इसे कोई टाल नहीं सकता। जो भी पृथ्वी पर आया है उसे एक दिन शरीर को छोड़कर जाना ही है। लेकिन आप तो जानते हैं कि शरीर में मौजूद आत्मा कभी समाप्त नहीं होते। बस रूपांतरित होती रहती है। मृत्यु के बाद आत्मा को अजब-गजब अनुभव से गुजरना होता है। जो आत्मा के भीतर भी दुखद और कष्टकारी होता है।

लेकिन यह सबसे परे एक सवाल आता है कि क्या मृत्यु के बाद भी जीवन संभव है? आज हम इस एपिसोड के जरिए हम इसी के बारे में जानेंगे। तो चलिए शुरू करते हैं:-

दोस्तों जैसा कि आप सभी लोग जानते हैं कि आत्मा शरीर से निकलकर कुछ दिन तक अचेत अवस्था में रहती हैं। आत्मा को इस प्रकार का महसूस होता है जैसे कठिन परिश्रम के बाद थका हुआ मनुष्य गहरी निंद्रा में होता है। लेकिन कुछ पल में या अचेत से सचेत हो जाती है।

जब व्यक्ति के शरीर से आत्मा निकलती है तो उसे कुछ पता ही नहीं होता कि वह शरीर से अलग है। उसी प्रकार से व्यवहार करती है जिस प्रकार शरीर में रहते हुए उसका व्यवहार था।

आप तो जानते हैं कि जब कोई व्यक्ति मर जाता है तो हम लोग कहते हैं कि अब यह नहीं रहा। लेकिन यह सच नहीं होता। वह व्यक्ति वैसा नहीं रहता जैसा आप जानते हैं। भले ही शरीर अलग हो जाता है लेकिन आत्मा नहीं। कर्म के आधार पर मानसिक और प्राणिक शरीर चलते रहते हैं।

दूसरा गर्व करने के लिए इसकी तीव्रता तेज होनी चाहिए। निष्क्रिय हो जाना यदि कर्म संरचना कम हो गई है, क्योंकि उसने अपना पाठ्यक्रम चलाया है। तो वह बहुत आसानी से दूसरा शरीर ढूंढ लेता है। जब जीवन के लिए अपना आवंटित करम पूरा कर लेता है तो वह तो ऐसे ही मर जाएगा बिना बीमारी बिना दुख, तकलीफ के। उस व्यक्ति को कुछ ही घंटे में दूसरा शरीर मिल जाता है।

जब कोई अपना कर्म पूरा कर लेता है और शांति से मर जाता है तो उसे इधर उधर भटकने की जरूरत नहीं पड़ती। लेकिन जब कर्म संरचना अधूरी रह जाती है तो उसे दूसरे से शरीर खोजने के लिए बहुत समय की जरूरत पड़ती है। जिसे हम लोग भूत कहते हैं।

दोस्त आप सवाल आता है कि जब हम मर जाते हैं तो हम लोग जाते हैं कहां हैं? इस बात का विज्ञान कोई सुझाव नहीं देता है। हो सकता है कि इस तरह क्या चीज है हम साबित किए हैं वह सब से परे हैं।

मनुष्य हमेशा जीवन और मृत्यु पर विचार करता रहता है। जीवन में एकमात्र निश्चिंतता मृत्यु है। सदियों से मनुष्य के साथ आने का खोजने का कोशिश कर रहा है। जो यह समझा सकता है कि कई लोग बाद में जीवन पर क्यों विश्वास करते हैं।

प्राचीन दुनिया से लेकर आज तक लोगों के आसपास की दुनिया में कई सारे अनुष्ठान और मान्यताएं हैं। यह जानना बहुत ही स्वाभाविक है कि क्या मृत्यु के बाद भी जीवन है? लेकिन दोस्त वह वास्तव में मृत्य के बाद भी जीवन है।

ऐसा इसलिए क्योंकि बहुत लोग मानते हैं कि मृत्यु बहुत बुरी चीज है। उससे डरने की जरूरत है। लेकिन कुछ दर्शकों ने तर्क दिया है कि मृत्यु कोई बड़ी बात नहीं है। जितना लोग आज तक समझते आए हैं।

कई लोगों का मानना है कि मृत्यु के बाद भी जिंदगी होती है। जिसमें हम इंसानों की आत्मा भटकती है। और लोगों को परेशान भी करते हैं। लेकिन हम आपको बता दें कि मृत्यु के बाद भी अगर जीवन संभव होता तो उनकी अलग ही दुनिया होती।

यह वैज्ञानिकों का मानना है लेकिन आज तक ऐसी कोई दुनिया नजर नहीं आई है। अगर होती होगी तो इंसान के शरीर को छोड़ने के बाद ही पता चल पाएगा।