Home रोचक तथ्य लोग पैसे देकर खरीदते हैं बीवी को, दुल्हनों की मंडी से !

लोग पैसे देकर खरीदते हैं बीवी को, दुल्हनों की मंडी से !

दोस्तो, आप तो जानते हैं कि हर माता पिता की चाहत होती हैं कि उनकी बेटी की शादी अच्छे से धूमधाम से हो। लेकिन क्या आप हनते हैं कि दुनियाँ मे एक ऐसा भी देश हैं, जहां बेटियो को शादी के लिए बाजार मे बेचा जाता हैं। आज हम आपको उस देश के बारे मे बताएँगे जहां लड़कियो की बोली लगती हैं। उनके माता पिता ही उहने बाजार मे ले जाकर बेचते हैं। तो चलिये शुरू करते हैं।

कई दिन पहले से ही शुरू हो जाती हैं तैयारी

दुल्हनों को बाजार मे ले जाने के लिए कई दिन पहले से ही तैयारियां शुरू हो जाती हैं। जो लड़कियां ज्यादा खूबसूरत होती हैं, उन्हे ज्यादा पैसो मे बेचा जाता हैं। और अच्छे कपड़ो और मेकअप के साथ बाजारो मे आती हैं।

लड़का पसंद करता हैं, लड़कियो को

दुल्हन को अच्छी तरह से तैयार करते बाजार मे लाने के बाद लड़का लड़की को पसंद करता हैं। फिर उसे अपनी पत्नी के रूप मे स्वीकार करता हैं। लड़का और लड़की के परिवारों के बीच लें दें की बातचीत होती हैं। परिवारवाले रकम तय करते हैं, फिर रिश्ता हो जाता हैं।

लड़कियो का सौदा इतने रुपए मे होता हैं

जब लड़का लड़की को पसंद कर लेता हैं, तो सौदे की रकम तय की जाती हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार बाजार मे 3 से 400 डॉलर मे लड़कियो को बेचा और खरीदा जाता हैं।

अपने माता पिता के साथ जाती हैं लड़की

लड़कियो को उनके अपने माता पिता मंडी मे लेकर पहुँचते हैं। इस मंडी मे तमाम खरीदार भी मौजूद होते हैं। जिसकी वहाँ पर बोली लगाई जाती हैं। जो सबसे ज्यादा रकम देता हैं, उसी के साथ उसके माता पिता लड़की का रिश्ता तय कर देते हैं।

इस समुदाय के लोग लगाते हैं दुल्हनों की मंडी

दुल्हनों की मंडी कलाइदक्षी समुदाय के लोग लगते हैं। कहा जाता हैं, की इस परंपरा से लड़कियो को भी कोई आपत्ति नहीं होती, क्यूकी इस समुदाय मे शुरू से ही लड़कियो को इसी मानसिक तौर से तैयार किया जाता हैं। इस समुदाय मे करीब 18,000 लोग रहते हैं।

लड़कियो मे ये गुण भी होने चाहिए

एक जानकारी के अनुसार एक समुदाय के लोग 13 से 14 साल की उम्र से ही लड़कियो की स्कूल बंद करवा दी जाती हैं। दुल्हनों की मंडी मे आने वाले हर लड़की को घर के सारे काम आने चाहिए। चाहे वह ज्यादा उम्र की हो या फिर कम उम्र की। यही कारण हैं कि इस मंडी मे आने वाले अधिकतर लड़कियां नाबालिंग ही होती हैं।

source:- zeenews.india.com