Home रोचक तथ्य दुनियाँ का सबसे अद्भुत बांध, टूटने पर बहुत सारे लोगो की जान...

दुनियाँ का सबसे अद्भुत बांध, टूटने पर बहुत सारे लोगो की जान जा सकती हैं…

हैलो दोस्तों, क्या कभी आपने अपनी लाइफ में ऐसा डैम को देखा हैं, जहां पास बहुत बड़ा एक होल है। इस होल में गिरने से बहुत लोगों की जान गई है। और यह एक ऐसा डैम है जो एक बम की तरह है जो कभी भी फट सकता है। दोस्तों क्या कर रही है आपने ऐसे डैम को देखा है जो पूरे रिवर के पानी को कंट्रोल करता है। और पूरा डैम सिर्फ कच्ची मिट्टी से बना हुआ है। आज के एपिसोड में हम आपको दुनिया के सबसे डेंज-रस डैम के बारे में बताएंगे। जिनके बारे में आपने शायद कभी नहीं सुना होगा।

Hoover dam (USA):- इस डैम को पहले वोल्डर डैम के नाम से जाना जाता था। कंक्रीट से बनाया गया या डैम यूएसए का सबसे बड़ा डैम है। इस डैम को ऊपर से देखना में जितना पतला लगता है वह नीचे से इतना पतला नहीं है। यह डैम नीचे से 656 फीट चौड़ा है। और ऊपर से इसे सिर्फ 46 फीट ही चौड़ा बनाया गया है। यह डैम देखने में जितना सुंदर है उतना ही खतरनाक भी है अगर यह डैम टूट गया तो हजारों या लाखों लोगों की जान नहीं जाएगी बल्कि करोड़ों लोगों की जान चली जाएगी।

Almendra dam (Spain) :- यह डैम स्पेन के सबसे ऊंचा डैम है। जिसे बिलानिरो डैम के नाम से भी जाना जाता है। इस डैम को 1963 और 1970 के बीच बनाया गया। इस डैम के अंदर 2.5 मिलियन पानी मौजूद है। इस डैम से जरा सा भी छेड़छाड़ तबाही ला सकती है। यह डैम नीचे से आधा किलोमीटर तक चौड़ा है। इसकी ऊंचाई 202 मीटर है। यह डैम 810 मेगावाट बिजली का उत्पादन करता है।

Jinping dam (china):- दोस्तो आप तो जानते हैं कि चाइना डैम के देश के नाम से जाना जाता है। चाइना में लगभग 87000 डैम है। जिनपिंग डैम चाइना का ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया का सबसे बड़ा डैम है। इस डैम को 4 बिलियन डॉलर खर्च करके बनाया गया है। इस डैम का आकार इतना बड़ा है कि इसके ऊपर 60 मिलियन लोगों का जान है निर्भर है। यह डैम चाइना के काफी बड़े हिस्सों को बिजली पहुंचाने का काम करता है।

यह डैम बड़ा होने के साथ-साथ बहुत खतरनाक भी है। इस डैम को लेकर इंजिनियर्स का कहना है कि या एक जिंदा बम की तरह है जो कभी भी फट सकता है। अगर यह गलती हो जाती है तो यह कितना नुकसान करेगा इसका अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता है।

Kariba dam (Zimbabwe) :- इस डैम को 1955 में बनाया गया था और यह 1959 में बनकर तैयार हो गया था। इस डैम की ऊंचाई 420 फीट है। यह डैम इतना बड़ा है कि जिंबाब्वे नदी के पानी को कवर करता है। एक रिपोर्ट के मुताबिक अगर इस डैम को रिपेयर नहीं किया गया तो वह यह डैम फेल हो जाएगा तो 1.5 मिलियन लोगों की जान जा सकती है। जो कि इतने लोग इस डैम पर पूरी तरह से निर्भर है।

Mosul dam (Iraq) :- यह डैम देखने में बड़ा डैम की तरह नहीं लगता है। लेकिन यह दुनिया का सबसे खतरनाक डैम है। यह डैम कच्ची मिट्टी से बना हुआ है। यह मिट्टी दिन पर दिन लहरों के साथ कटती जा रही है। इसलिए यह डैम इतना ज्यादा खतरनाक है कि यह कभी भी फेल हो सकता है। लेकिन इस डैम पर बिना रुके 24 घंटा काम चलता रहता है। इस डैम को 1986 में बनाया गया था।

Idukki dam (india) :- दोस्तों यह डैम एशिया के सबसे ऊंचा डैम में से एक है। इसे पेरियार रिवर पर बनाया गया है। इस डैम के द्वारा स्टोर किया गया पानी का यूज़ बिजली बनाने के लिए किया जाता है। यह डैम 780 मेगावाट बिजली का उत्पादन करता है। इसकी ऊंचाई 554 फीट है। ऊंचा के साथ-साथ बहुत खतरनाक भी है। अगर इसमें थोड़ी सी भी गड़बड़ होती है तो यह वह सैलाब लेकर आएगा जिसे कोई रोक नहीं सकता।

Three gorges dam (china) :- पृथ्वी पर मौजूद यह डैम दुनिया का सबसे बड़ा डैम है। ऐसा कहा जाता है कि इस डैम के निर्माण के बाद धरती के रोटेशन में कमी आई है। इस डैम का निर्माण 2006 में किया गया था। ऐसा भी कहा जाता है कि यह डैम आसपास के एनवायरनमेंट पर बहुत बुरा असर डाला है। इस डैम की वजह से यहां के आसपास के एरिया में अर्थक्वेक हमेशा आते रहते हैं।

हाल ही में कई बार इस डैम को खतरे के निशान के ऊपर बहते हुए देखा गया है। यह डैम चाइना में बहुत ज्यादा बिजली उत्पादन करने में काम आता है।

Monticello dam (USA) :- यह डैम दुनिया के सबसे सुंदर डैम में से एक है। इस डैम को देखने के लिए दूर-दूर से हजारों लोग आते हैं। इस डैम में एक ग्लोरी होल बना हुआ है जो देखने में काफी ज्यादा अच्छा लगता है।

लेकिन दोस्तों यह होल एक नरक का दरवाजा है इस डैम में गिरने से कई सारे लोगों के जाने जा चुकी है। यह होल में आज तक जो भी गिरा है वह जिंदा नहीं बच पाया है। इस डैम को 1957 तक बना दिया गया था।

Contra dam (Switzerland) :– इस डैम को स्विट्जरलैंड में बनाया गया है। यह डैम स्वीटजरलैंड के मोस्ट फेमस डैम में से एक है। इसकी ऊंचाई 230 मीटर है। इसकी लंबाई 380 मीटर है। इस डैम पर बहुत सारे लोग आकर स्टंट भी करते हैं। इसे 1965 में बनाया गया था।

इस डैम को बनाने में कई सारी मुश्किलें आई थी। अगर इस डैम में छोटी सी भी गलती आती है तो पूरे डैम को गिरा दे सकती है। और डैम के गिरने के बाद भारी तबाही आ जाएगी।