अपनी बेटी की जान बचाने के लिए तेंदुए से भीड़ गयी माँ फिर जो हुआ जिसे देख दंग रह जाएगे आप !

दोस्तो महाराष्ट्र के चंद्रपुर के एक छोटे से गाँव की रहने वाली इस माँ को देखिये जिसने अपनी बेटी की जन बचाने के किए एक खूंखार तेंदुए से भीड़ गयी। दरअसल बात यह हैं, की चंद्रपुर शहर से सटे जुनोना गाँव के पास माँ अर्चना मेश्राम ने अपनी बेटी जो की 5 साल की थी उसका नाम प्राजक्ता हैं, उसे लेकर गाँव मे बने नाले के पास से जंगली सब्जियाँ तोड़ने गयी थी। सब्जियाँ तोड़ने के दौरान उसकी बेटी अपनी माँ से थोड़ी दूर चली गयी। पहले से ही घाट लगाए बैठे खूंखार तेंदुए ने अचानक बच्ची पर हमला कर दिया। जिसे देख माँ के होश उड़ गए।

उसने देखा की बच्ची की सर को तेंदुए ने अपने जबड़े मे फसाकर रखा हैं। जिसे देख उसकी रोंगटे खड़े हो गए। उसने खुद को संभाला और पास की पड़े डंडे को उठा कर तेंदुए पर बार करने लगी, इसी दौरान तेंदुए ने बच्ची को छोड़ दिया।

तेंदुए ने बच्ची को छोड़ माँ पर हमला कर दिया। उसने खुद को बचाया, तेंदुए ने महिला पर से ध्यान हटा कर फिर से बच्ची पर हमला करने लगा और फिर एक बार अपने जबड़े मे बच्ची को फसा लिया। माँ ने फिर से डंडे से बार करना शुरू कर दिया। जिसे छोड़ कर तेंदुया भाग गया । माँ के इस बहदुरी के आगे तेंदुया ने भी हार मान लिया। कहते हैं न माँ के ममता के आगे सब हार जाते हैं।

इसी तरह तेंदुया ने भी हार मनी और वहाँ से चला गया। बच्ची बुरी तरह से घायल हो गयी जिसे सर मे और चेहरे मे गहरी चोट आई जिसकी वजह से वह बेहोश हो गयी। जिसे तुरंत पास के हॉस्पिटल मे भर्ती कराया गयी, जिसे प्राथमिक उपचर के बाद नागपुर सरकारी हॉस्पिटल मे भेजा गया।

जिसका अभी उपचार चल रहा हैं। घायल बेटी के पिता संदीप मेश्राम मे अपनी पत्नी को कहा की बड़ी हिम्मत दिखाकर बेटी को बचाया हैं। डॉक्टर ने बताया की बच्ची की हालत अब खतरे से बाहर हैं। संदीप का कहना हैं की तेंदुए अक्सर यहा बकरी के शिकार के लिए आया करते थे, तेंदुया यहाँ बकरी के शिकार के लिए ही आया होगा लेकिन इस बार मेरी बेटी को देख लिया और उस पर ही झपट पड़ा।

source:-aajtak.in