अजब गजब

हमारे देश के लोगों में खून में ही जुगाड़ भरा पड़ा है…।

दोस्तों क्या बता सकते हैं कि हमारे देश और दुनिया में क्या फर्क है। हमारे देश के लोगों में खून में ही जुगाड़ भरा पड़ा है। हमारे देश में लोग काम को आसान बनाने के लिए कुछ ऐसे ऐसे जुगाड़ लगा लेते हैं जैसे कि उन्हें अंदाजा भी नहीं होता। आज के एपिसोड में हम आपको ऐसे ऐसे जुगाड़ के बारे में बताने वाले हैं जिससे कि आप हैरान रह जाएंगे। तो चलिए आज के एपिसोड को शुरू करते हैं:-

नंबर 01. लंबे सफर करने वाले रात को लोग कैसे रात काटते हैं चलिए आज हम आपको बताते हैं। लंबे सफर करने वाले लोग रात को काटने के लिए सीट के बीच में झूला लगा लेते हैं। आज रात में झूले में ही सोते हैं। आप में से बहुत सारे लोगों के लिए यह एक आम बात हो गई लेकिन है तो यह कुछ जुगाड़ ही। यह जुगाड़ बच्चों का कोई खेल नहीं है। अगर आपने इस झूले को अच्छे से नहीं बांधा तो समझो आप रात भर में ऊपर चले जाओगे।

नंबर 02. अगर आपको बाइक से कहीं बाहर जाना है और बाहर बहुत जोर से बारिश हो रही है तो आप क्या करोगे। आप तो यही कहेंगे कि उसमें क्या बात है हम छाते का प्रयोग कर। लेकिन अगर आपके पास आता भी नहीं हो तो आप फिर आप क्या करोगे। लेकिन एक व्यक्ति ने बारिश से बचने के लिए अपने ऊपर प्लास्टिक ही पहन लिया। यह बहुत गजब का जुगाड़ है।

नंबर 03. दोस्तों क्या आप जानते हैं कि जुगाड़ करना हमारे भारतीयों का हक है। हमारे इंडिया में तो जुगाड़ करना एक शान की बात है। एक बंदा ने अपने जुगाड़ को जारी रखने के लिए बैल के आगे घास लगा दी और उस घास को लकड़ी के सहारे खुद पकड़े हुए था। घास को खाने के चक्कर में तो बैल आगे आगे भागा जा रहा है। लेकिन दोस्तों को ध्यान रहे कि जुगाड़ के चक्कर में किसी जानवर को परेशान नहीं करना चाहिए।

नंबर 04. दोस्तों अगर आपको सर्दियों के टाइम में नदी में नहाना हो तो आप क्या करोगे। और नदी में आती है ठंडी पानी ठंडा पानी में नहाने का पसंद शायद ही कोई करेगा। सर्दियों के दिनों में नहाने के लिए एक व्यक्ति ने नल के नीचे जलती हुई मोमबत्ती को लगा दिया। यह कितना अच्छा काम करता है जुगाड़ इसका अंदाजा तो मुझे भी नहीं है।

नंबर 05. एक सड़क के स्टेट लाइट ही खराब हो गई थी। मतलब कि उसका ऑन ऑफ का बटन ही खराब हो गया था। तो सड़क पर एस्टेट लाइट जलाने के लिए एक व्यक्ति ने ट्रॉली लाई और उस पर बहुत सारा भूसा लाद दिया। और उस भरोसे में ही है स्टेट लाइट को खोस दी। फिर क्या है जहां-जहां वो ट्रॉली जाती थी वैसे वैसे स्ट्रीट लाइट भी जाती थी।