Entertainmentअजब गजब

200 किलो के पहलवान को उठाकर पटक देते थे दारा सिंह, रामायण में निभाया था हनुमान जी का किरदार

दारा सिंह रंधावा (जन्म दीदार सिंह रंधावा; 19 नवंबर 1928 - 12 जुलाई 2012) एक भारतीय पेशेवर पहलवान, अभिनेता, निर्देशक और राजनीतिज्ञ थे । उन्होंने 1952 में अभिनय शुरू किया और भारत के राज्यसभा (उच्च सदन) के लिए नामांकित होने वाले पहले खिलाड़ी थे।

दोस्तों आज हम आपको मशहूर दारा सिंह यानि की राम भक्त हुनुमान हे बारे मे बताने जा रहे हैं। जी हां दारा सिंह का जन्म 19 जनवरी 1928 के पंजाब के अमृतसर मे हुआ था। दारा सिंह के आज लाखों लोग फैन हैं। हर कोई उनके दिलो पर राज करता हैं। ये सिर्फ किरदार ही अच्छे से नहीं निभाते हैं, बल्कि कुश्ती मे भी पूरी दुनिया पर राज करते हैं।इन्होने कई फिल्मे भी बनाई हैं।

दारा सिंह का पूरा नाम दारा सिहन रंधावा था। इनहे बचपन से ही कुश्ती का शौक था। इनकी हाइट और वेट भी काफी अच्छी थी। इन्होने अपने सारे शौक को पूरा किए लेकिन अफसोस की बात ये हैं की अब ये इस दुनिया मे नहीं रहे। आज ये इस दुनिया मे भले ही नहीं हैं, लेकिन जो उन्होने बेहतरीन काम किए हैं उसके बल पर आज पूरे फैन्स के दिलो पर राज करते हैं।इनके मौत के खबर सुन कर पूरे दुनिया मे खलबली मच गयी थी।

आपको बता दे की ये पहले अखाड़े और मेले के समारोह मे कुश्ती लड़ते थे। सन 1947 मे सिंगापूर मे मलेशियाइ चैंपियन मे तरलोक सिंह को पछाड़ दिया था। जिसके बाद वह भारत मे एक प्रसिद्ध पहलवान बन गए। वह अपने हेल्थ को मेनटेन कर के रखते थे। 55 साल की उम्र मे भी वह पहलवानी करते थे।

1959 मे उन्होने पूर्व दुनिया चैपियन जॉर्ज गार्डियंका को हराकर कोंन्वेल्थ को हारा कर चैंपियनशिप मे जीत हासिल की। 1968 मे भी कुश्ती मे विजेता हासिल की। उन्होने अपने पूरे जीवन मे 500 मुक़ाबले लड़े एक भी मैच मे भी हार नहीं हुई।

आपको बता दे की दारा सिंह ने ऑस्ट्रेलिया के पहलवान किंग कोंग से मुक़ाबला किया जिसमे दारा सिंह की जीत हुई। आपको जानकार हैरानी होगी की किंग कोंग पुरो 200 किलो के था और दारा सिंह उस समय 30 साल के थे, तब भी दारा सिंह ने उसे सिर पर उठा कर जमीन पर पटक दिया था। दर्शको के आखें फटे-के-फटे रह गए।

दारा सिंह के साथ मशहूर अभिनेत्री मुमताज़ ने इनके साथ 16 फिल्मे बनाई हैं। आपको जन कर हैरानी होगी की लड़किया इनके साथ काम करने से डरती थी। रमानन्द सागर के द्वारा निर्मित रामायण मे यह हुनुमान बने थे, जिसके बाद सभी इन्हे हनुमान जी कह कर बुलाने लगा था। दारा सिंह का निधन 12 जुलाई 2012 मे 84 वर्ष की आयु मे हो गयी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.