एजुकेशनसफलता की कहानी

Succes Story : IAS ऑफिसर बनने के लिए छोड़ा अपना घर और लाखो की नौकरी

हैलो दोस्तो, आज हम आपको मोटिवेशनल की एक ऐसी स्टोरी बताने जा रहे अहीन, जो ऑल इंडिया मे तीसरी रैंक हासिल की थी। चलिये विस्तार से जानते हैं उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर की रहने वाली प्रतिभा वर्मा के संघर्ष की कहानी

सुल्तानपुर की रहने वाली प्रतिभा वर्मा

प्रतिभा वर्मा ने UPSC के एकजाम मे ऑल इंडिया मे तीसरी रैन हासिल की। प्रतिभा उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर की रहने वाली हैं।

बचपन से ही IAS का सपना

बचपन से ही IAS बनने का सपना देखने वाली प्रतिभा पहले इंजीनियर की, फिर आईआरएस अफसर बनी और अंत में अपने आईएएस बनकर अपने सपने को पूरा किया।

पढ़ाई की शुरुआत

प्र्तिभा ने अपने पढ़ाई की शुरुआत हिन्दी मीडियम से की। 10वीं और 12वीं करने के बाद वे अपने घर को छोडकर चली गयी। और दिल्ली मे आ गयी।

बड़ी कंपनी मे जॉब

दिल्ली से बीटेक करने के बाद 2014 मे प्रतिभा को एक बड़ी कंपनी मे जॉब लग गयी। उनकी साइलेरी भी काफी अच्छी थी। बाद मे उन्होने नौकरी को छोड़ दी।

UPSC की तैयारी

2016 मे नौकरी छोडने के बाद प्रतिभा ने घर से दूर रहकर UPSC की तैयारी मे जुट गयी।

UPSC मे सफलता

प्रतिभा को पहली बार मे सफलता हाथ लगी। वो प्री मे ही छट गयी। दूसरी प्रयास मे उनका चयन IRS के लिए हुआ।

असंतुष्ट

वो इस पद से संतुष्ट नहीं थी इसलिए वो फिर से तैयारी शुरू कर दी। क्यूकी वो एक IAS ऑफिसर बनना चाहती थी।

तीसरी बार मे सफलता

प्रतिभा को तीसरी बार मे सफलता हाथ लगी। वो 2019 मे ऑल इंडिया मे तीसरी रैंक हासिल की।

बीमारी से भी परेशान रही प्रतिभा

प्रतिभा कहती हैं कि मुझे 2018 मे डेंगू हो गया था। उसे ठीक होने के बाद 2019 मे टाइफाइड और फिर 2020 मे डायरिया हो गया। जिस वजह से भी वो और ज्यादा कमजोर हो गयी।

माँ-पिता का सपोर्ट मिला

प्रतिभा बताती हैं कि इस सब मुश्किलों मे मेरे माँ-पिता ने मेरा साथ नहीं छोड़ा। उन दोनों ने मेरी सफलता के लिए काफी मदद की।

source:-zeenews.india.com