एजुकेशन

IAS सवाल जवाब : वह क्या है जो एक बाप अपनी बेटी के जन्म पर उसे देता है और शादी होने पर ले लेता है?

सवाल नंबर 1: आपके बचपन की दोस्त आपकी गर्लफ्रेंड भी थी और उससे आपकी शादी होने वाली थी लेकिन सिविल सर्विस की तैयारी में आप इतने बिजी हो गए की आपने उसे समय नहीं दिया जिस कारण उसने आपको छोड़ दिया। जब उसे पता चलेगा कि आप आईएएस बन गए हैं तो वह आपके पास वापस आएगी। उसके वापस आने पर आपका क्या रिएक्शन होगा? क्या पुराना प्यार समझकर आप उसे माफ देंगे या उससे दूरी बना लेंगे? और क्यों ?

कैंडिडेट का जवाब था – यह कई परिस्थितियों पर निर्भर करेगा जैसे कि उसने मुझे जब छोड़ा था तो क्या इसके पीछे उसकी मंशा मेरी पढ़ाई में डिस्टर्ब न करने की थी या वाकई में वो मेरे साथ नही रहना चाहती थी। अगर मुझसे दूर होने के बाद भी वो मेरे परिवार के टच में रही, उनसे बातें करती रही तब मैं समझ जाऊंगा कि वो मेरे भले के लिए ही मुझसे दूर हुई थी।

सवाल नंबर 2: एक महिला कैंडिडेट से पूछा गया कि आप किसी जिले की डीएम हैं और अपने क्षेत्र के दौरे पर निकली हैं तभी कोई युवक सामने से आकर आपको प्रोपोज कर देता है तो आप क्या करेंगी? क्या आप उस युवक के खिलाफ आपरा’धिक मुक़’दमा दर्ज करके गिर’फ़्तारी का आदेश जारी करेंगी?

कैंडिडेट का जवाब – किसी लड़के द्वारा किसी लड़के को प्रोपोज करना आईपीसी के किसी भी सेक्शन में अप’राध की श्रेणी में नहीं आता है। अगर कोई लड़का मुझे प्रोपोज करता है तो मैं उसे इग्नोर करूंगी लेकिन अगर वो मेरे पीछे पड़ जाए, मुझे फॉलो करने लगे या किसी तरह की बक्तमीजी करने की कोशिश करे तब उस वक्त उसे वॉर्निंग दूंगी और फिर भी वह नहीं मानता है तो उसके खिलाफ पीछा करने और छेड़:छाड़ के तहत मुक’दमा दर्ज कराउंगी।

सवाल नंबर 3: क्या रे’प के आरोपी को फां’सी देने का सरकार का फैसला सही है? क्या इससे समाज में रे’प होने बंद हो जाएंगे?

कैंडिडेट का जवाब – नहीं, इससे पीड़ि’ता की जा’न को खत’रा पैदा हो जाएगा। आरोपी सबूत मिटाने के लिए पीड़िता की जा’न लेने की कोशिश करने लगेंगे। इसका दूसरा नेगेटिव पहलू यह भी है कि दहेज और छेड़’छाड़ के कानून की तरह इसका भी दुरुपयोग शुरू हो जाएगा। कुछ महिलाएं जान-बुझकर निर्दोष लोगों को रे’प के’स में फंसाने की धमकी देकर ब्लैक’मेल करने लगेंगी। चूंकि हमारा कानून पी’ड़िता की गवाही को सबसे ज्यादा अहमियत देता है ऐसे में कोई ब्लैक’मेलर महिला अपनी निजी दुश्म’नी निकालने के लिए किसी के भी खिलाफ इस तरह की गवाही दे सकती है। फाँ’सी की जगह उम्र कै’द की सजा निर्धारित की जा सकती है।

सवाल नंबर 4: एक महिला आईआईटी ग्रेजुएट का आईएएस के इंटर्व्यू राउंड के लिए सेलेक्शन हो गया। उससे सवाल पूछा गया कि आपने आईआईटी से इंजीनियरिंग की है फिर करोड़ों का सैलरी पैकेज ठुकरा कर आप आईएएस हीं क्यों बनना चाहती हैं?

कैंडिडेट का जवाब था कि अपनी स्टडी के दौरान जब मैं कई तरह के सर्वे और रिसर्च करने के लिए गांवों का दौरा करती थी तब वहां लोग मुझे सरकारी कर्मचारी समझ कर अपनी समस्याएं बताते थे। चूंकि उस वक्त मैं एक स्टूडेंट थी इसलिए मैं उनकी ज्यादा मदद नहीं कर सकती थी। लेकिन मेरे दिल में उनकी मदद करने का जज्बा था। सरकारी योजनाओं को गांव-गांव तक पहुँचाकर जनता की मदद करने के लिए आईएएस से बेहतर प्लेटफॉर्म कोई और नहीं हो सकता है।

सवाल नंबर 5: अगर आप एक जिले के डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट बन जाते हैं तो आप अपने क्षेत्र में क्या-क्या सुधार लाना चाहेंगे?

कैंडिडेट का जवाब – मैं सुधार की शुरूआत अपने आप से करूंगा। अपने काम में ट्रांसपेरेंसी लाऊंगा। फिर सभी सरकारी विभागों में मौजूद कर्मचारियों की जनता के प्रति जवाबदेही तय करूंगा। सिस्टम में लोगों का पार्टिसिपेशन बढाऊंगा और सरकार की तरफ से जनता को मिलने वाली सर्विसेज और स्कीम का डायरेक्ट बेनेफिट उन्हे दिलाउंगा।

सवाल नंबर 6: वह क्या है जो एक बाप अपनी बेटी के जन्म पर उसे देता है और शादी होने पर ले लेता है?

कैंडिडेट का जवाब – सरनेम