Home अजब गजब दुनिया के 8 सबसे जिद्दी मकान मालिक, जिन्होंने बिल्डर के आगे नहीं...

दुनिया के 8 सबसे जिद्दी मकान मालिक, जिन्होंने बिल्डर के आगे नहीं मानी हार

आज पूरी दुनियाँ में अंधाधून विकास चल रहा है। विकास के नाम पर पुरानी चीजों को तोरा जाता है और नयी चीजों को बनाया जाता है। हमारे आस्पस्स हर जगह नए निर्माण किए जा रहें हैं। अक्सर जब नए निर्माण किए जाते हैं तो पुरानी इमारतों को या घरों को तोर दिया जाता है। उसके लिए वहाँ रहने वाले पुराने लोगों को अपने घर को बेचने के लिए मजबूर किया जाता है।

ज़्यादातर लोग अपनी प्रॉपर्टि बड़े-बड़े बिल्डरों को बेचकर चुप चाप चले जाते हैं और जो नहीं जाते हैं उनके ऊपर बिल्डरों का प्रेसर होता है मकान खाली करने का लेकिन ये आपको जानकार हैरानी होगी की कुछ ऐसे भी मकानमालिक है होते है जो किसी भी कीमत पर अपना मकान बेचने के लिए तैयार नहीं होते हैं। उनके ऊपर सरकार ने बिल्डर ने न जाने कितने भी प्रेसर क्यू न डाल दिये हो, लेकिन कुछ गिने चुने मकानमालिक हैं, जो अपने जिद पर अड़े रहें और उन्होने हार नहीं मानी। दोस्तों, आज हम आपको कुछ ऐसे ही मकानमालिकों के बारे में बताएँगे। आइए, शुरू करते हैं।

नं.01. नेल हाउस। दोस्तों, इस घर को देखकर ऐसा लगता है जैसे इसके चारों ओर कोई धमाका हुआ हो लेकिन ऐसा कुछ भी हुआ नहीं हैं। ये घर एक ऐसे जिद्दी आदमी का है जो अपने घर को बेचना नहीं चाहता। क्यूकी उसे और जाने के पैसे उसे कम मिल रहे थे और इसके वजह से उसे 2 साल तक लोकल गवर्नमेंट से केस लड़ना पड़ा। सरकार भी यही चाह रही थी की हाउस औनेर मकान खाली कर दे। उसे बहुत परेशान किया गया। डेवलपर्स ने उसका घर का पानी, उसके घर की बिजली सब बंद कर दी। वह घर से कहीं दूर नदी से पानी लाने पे मजबूर हो गया। साथ में लाइट काट दिये जाने के बाद मोमबत्ती से कम्म चलना पड़ा। अब आप खुद ही समझिए की इस हाउस औनेर को कितनी परेशानियाँ झेलने पड़ी होंगी लेकिन दोस्तों, इस आदमी ने मकान खाली नहीं किया। अंत मे बिल्डर को मूके खाने पड़े। कहते है न की दर के आगे जीत है। इस इंसान ने करके दिखा दिया। अपने घर से इतना प्यार शायद ही किसी ने देखा होगा।


नं.02. ऑस्टिन स्पृग्ग्स। ऑस्टिन स्पृग्ग्स अमेरिक का रहने वाला था जिसे कई लोगों ने पैसे देकर उसके जगह को खरीदने की कोशिश की। उसके लिए लोग उन्हे करोरों रुपय देने के लिए तैयार हो गायें। इतने पैसे देने के लिए तैयार हो गए की किसी का भी मन पलट जाए। उसके ऊपर पैसों की बारिश करा दी गयी। वो जो बोले उसके अरमानो को पूरे करने की बात तक कर ली गयी लेकिन हर बार ऑस्टिन मना कर देता था क्यूकी वो और ज्यादा पैसे चाहता था या कह सकते है की वो बहुत ज्यादा लोभी हो गया था, लेकिन बिल्डर ने उसे बहुत बढियां जबान दिया था और वो कैसे ये देखिये जनाब…….बिल्डर ने उसके पास की एक जमीन खरीदकर वहाँ एक बड़ी बिल्डिंग खड़ी कर दी, जिसके बाद साल 2011 में ऑस्टिन ने अपना घर 7.5 लाख डॉलर मे बेच दिया। इसलिए कहते है बिल्डर बहुत ताकतवर होता है भई।

नं.03. मिसफील्ड। ये घर अमेरिका के फ़ेमस सहर निउयोर्क में है। यहा घर खरीदना कोई आसान काम नहीं है। और जिसके पास घर है वो बेचना नहीं चाहता। यहा एक मॉल है यहा बीच के हिस्से मे खाली जगह है, उस खाली जगह मे है एक छोटा सा घर। जब इस जगह पर मॉल बनाया गया, तब इस घर के मालिक को करोरों रुपय का ऑफर दिया गया लेकिन मालिक ने इसे साफ बेचने से मना कर दिया। मालिक का कहना था की वो की भी हाल में अपने प्यारे घर को नहीं बेचना चाहता। इसलिए बिल्डर्स ने उस खाली जगह को छोडकर बाकी जगहो पर एक मॉल खड़ा कर दिया। बाद में उस घर के मालिक की दोस्ती उस कौंटरेकटर से हो गयी और जब वो मर गए तो उसका घर कौंटरेकटर को दे दिया गया क्यूकी यही उस घर के मालिक की आखिरी इच्छा थी। अंत भला तो सब भला।

नं.04. लुओ बौगेन। चाइना में एक सड़क को दो हिस्सों मे बाटना पड़ा क्यूकी जिस जगह से सड़क को जाना था, वह पे एक घर बना हुआ था। वह 5 मंज़िला इमारत सड़क के बीचों बीच बनी हु थी। और घर के मालिक को इस घर को छोडने की इच्छा नहीं थी और वो मालिक अपनी ज़िद पद अड़ा रहा। चीन की सरकार ने भी औनेर को बहुत समझाया पर वो माना नहीं। आखिर में, चीनी सरकार ने ये फैसला किया की रोड तो बनाएँगे ही और वो भी इस रोड पे ही बनायेंगे। घर को आप तोड़ नहीं सकते तो अंत मे करेंगे क्या? रोड को चौरा करना पड़ा।


नं.05. ऑस्ट्रेलिया हाउस। ये हाउस ऑस्ट्रेलिया मे मेल्बर्न मे स्थित है। वह के बिल्डर ने पूरी कॉलोनी खरीद ली लेकिन ये मकान नहीं खरीद पाया। घर के मालिक को करोरों रुपय का ऑफर दिया गया लेकिन मकान मालिक ने इसे साफ बेचने से माना कर दिया। मालिक का कहना था की वो किसी भी हाल मे वो अपने इस मकान क नहीं बेचने वाला है। बिदर ने उन्हे खूब समझाया लेकिन मकान मालिक नहीं माना। बिल्डर परेशान हो गया। वो घर के जगह पर शॉपिंग मॉल बनाना चाहता था लेकिन मकान मालिक के ज़िद्द के आगे उसकी एक ना चली। अंत मे बिल्डर को उसे छोरना ही पड़ा।

नं.06. अमेरिका हाउस। इस मकान मालिक ने अमेरिका के प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प को भी मकान खाली करने से माना कर दिया। अमेरेका का प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प प्रेसिडेंट बनने के पहले एक बहुत बड़े बिल्डर थे सिर्फ अमेरिका मे ही नही बल्कि पूरी दुनियाँ मे। उन्होने कई बड़े बड़े टाअर बनाए और उनही मे से एक उन्होने न्यूयॉर्क मे भी टाअर बनाए जिनका नाम है ट्रम्प टाअर लेकिन वह उस टाअर के नीचे बने हुए एक घर को नहीं हटा पाये। उन्होने मकानमालिक को करोरों रुपय देने का ऑफर किए लेकिन वो नहीं माना।


नं.07. दोस्तों, अब हम बात करते हैं हुंगरी देश की एक घर के बारे मे मे। वह एकफ़्लाइओवर बनाया जाना था। लेकिन वह एक घर बना हुआ था। वह के मकानमालिक ने घर हटाने के बात से साफ इंकार कर दिया। तब हंगरी की सरकरर ने उस घर की ऊपर से ही फ़्लाइओवर बना दिया। सरकार ने उन्हे बहुत समझाने की कोशिश की लेकिन वो नहीं माना। आपको ये जानकार हैरानी होगी की वहाँ मकानमालिक अपने पूरे परिवार के साथ रहते है।


नं.08. आपको ये जानकार भी हैरानी होगी को चीन की सरकार एक झोपड़ी को भी नहीं हटा पाया। जी हाँ, दोस्तों, चीन मे एक ऐसी जगह है जहा बहुत बड़े बड़े लोग आते है काम करने, बहुत बड़ा पैलेस है लेकिन वहाँ एक झोपड़ी बनी हुई है। चीन की सरकार ने उसे हटाने की बहुत कोशिश की लेकिन वो नहीं माना। मामले को कोर्ट मे ले जाना पड़ा लेकिन वहाँ भी चीन की सरकार को हार का ही सामना करना पड़ा। फिर सरकार ने उन्हे नए घर देने की बात कही, पैसे देने की बात की, लेकिन वो झोपड़ी वाला माना ही नहीं। उसने अपनी झोपड़ी नहीं हटाई। आज भी यह घर ऐसे ही बीच सड़क पे है। दोनों तरफ महल और बीच मे सड़क और सड़क पे झोपड़ी।