Trending Hindi jokesFunny jokesजोक्सLove jokesUPSCJokesमजेदार जोक्सहिंदी जोक्सIPSIASfactUPSC EXAM QNA

जिसे लोग समझ रहे थे छोटा-मोटा एक्टर वह निकला मशहूर सुपरस्टार अमरीश पुरी का पोता, खुद देखकर आप भी विस्वास नही करेंगे..

बॉलीवुड इंडस्ट्री में कई दिग्गज अभिनेता हैं जिन्होंने अपने अभिनय से अपना नाम बनाया है। दुनिया से जाने के बाद भी लोग उन कलाकारों को याद करते हैं। अभिनेताओं में से एक अभिनेता अमरीश पुरी थे।

अभिनेता अमरीश पुरी ने कभी नायक की भूमिका नहीं निभाई, उन्होंने जीवन भर केवल खलनायक की भूमिका निभाई है। लेकिन अमरीश पुरी की एक्टिंग इतनी दमदार थी कि कई हीरो डर गए। उन्होंने अपने समय की लगभग सभी फिल्मों में खलनायक की भूमिका निभाई है। अभिनेता अमरीश पुरी ने अपने फिल्मी करियर में एक से बढ़कर एक फिल्में दी हैं।

उनकी फिल्मों में बोले गए उनके डायलॉग आज भी लोग याद करते हैं। फिल्म ‘दिलजे’ का डायलॉग ‘जा सिमरन जा जिले अपनी जिंदगी’ हो या फिल्म ‘मिस्टर इंडिया’ का डायलॉग ‘मुगेम्बो खुश हुआ’। उनकी इस फिल्म के दर्शक उनकी एक्टिंग के दीवाने हो जाते हैं. अभिनेता अमरीश पुरी ने अपना नाम बनाया है। लेकिन वह जितने सफल हुए, उनके पोते-पोती उतने ही असफल होते गए। उनके पोते का कहना है कि दादा होते तो सब ठीक होता।

दरअसल, अभिनेता अमरीश पुरी के पोते का एक बयान सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। एक तरफ अभिनेता अमरीश पुरी ने हजारों फिल्में बनाकर करोड़ों की कमाई की है। दूसरी ओर, उनके पोते काम के लिए तरस रहे हैं।

वहीं अमरीश पुरी ने ऐसा नाम कमाया कि आज भी लोग उनका सम्मान करते हैं और उनका नाम बड़े सम्मान से लेते हैं। लेकिन उनके पोते को अभी मुश्किल हो रही है। हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि उनके पोते वर्धन पुरी ने बातचीत में कहा था कि अगर उनके दादा होते तो उन्हें नौकरी मिल जाती।

इससे पता चलता है कि वर्धन पुरी को फिल्म उद्योग में नौकरी नहीं मिल रही है और वह संघर्ष कर रहे हैं। उनका कहना है कि अगर दादू यानि अमरीश पुरी साहब का निधन नहीं हुआ होता और वे उनके साथ होते तो दादू की सिफारिश पर वर्धन को बॉलीवुड में आसानी से नौकरी मिल जाती। ऐसे में अमरीश पुरी के पोते की हालत देखकर उनके फैंस को काफी बुरा लग रहा है.

बॉलीवुड के सबसे खतरनाक खलनायक अमरीश पुरी के पोते वर्धन पुरी ने कहा कि वह बचपन से ही अभिनेता बनना चाहते थे। उन्होंने कहा, “जब मैं पांच साल का था तब से मुझे हाउस एक्टर और एंटरटेनर कहा जाता है।” अपने खाली समय में, मैं अपने दादाजी की विग और सैंडल पहनकर घर के चारों ओर घूमता और उनसे बात करता।

अब देखना यह होगा कि क्या वर्धन पुरी अपने दादा की तरह विलेन बनकर अपने करियर को चमका पाएंगे या हीरा बनकर दर्शकों का दिल जीत पाएंगे। वर्धन इससे पहले ‘इश्कजादे’ और ‘दावत-ए-इश्क’ के लिए हबीब फैसल और ‘प्योर कंट्री रोमांस’ के लिए मनीष शर्मा को असिस्ट कर चुके हैं।

वर्धन अपने दादा के गुरु और राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता अभिनेता सत्यदेव दुबे के मार्गदर्शन में प्रशिक्षण ले रहे हैं। वर्धन कहते हैं, ‘मुझे लेखन और निर्देशन का भी शौक है लेकिन अभिनय मेरा पहला प्यार है। दुबेजी ने मुझे बैकस्टेज काम दिया। मैंने कलाकारों और क्रू को चाय परोसी और मंच की सफाई की।

वर्धन ने कहा, “पहली फिल्म में अपनी भूमिका की तैयारी के लिए, मैं लगभग 18 महीने तक अपने दोस्तों से दूर रहा और इस भूमिका के लिए खुद को तैयार किया।” मैं अपने दादाजी से बहुत प्रेरित हूं। मैं उसके बहुत करीब था।

उनकी मौत मेरे लिए सदमे की तरह आई। फिर मैंने सोचा कि मैं उसके लिए कुछ करूंगा और यह फिल्म उसके लिए है। मेरे लिए दादू की पसंदीदा फिल्में विरासत, घटक और दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे।